News

फिर मिली तारीख, 3 मार्च को फांसी से बच जाएगा पवन?

फाइल फोटोफाइल फोटो
हाइलाइट्स

  • सुप्रीम कोर्ट 2 मार्च को पवन के क्यूरेटिव पिटिशन की करेगा सुनवाई
  • पांच जजों की बेंच पवन की याचिका को सुनेगी
  • बता दें कि 3 मार्च को निर्भया के दोषियों को फांसी दी जानी है
  • पवन के पास अभी राष्ट्रपति के पास दया याचिका दाखिल करने का भी विकल्प है

नई दिल्ली

निर्भया गैंगरेप और हत्या के चौथे दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटिशन लगाई है। सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बेंच 2 मार्च को सुनवाई करेगी। पवन ने अपनी अर्जी में कहा है कि वो घटना के वक्त नाबालिग था। इस मामले में उसकी रिव्यू अर्जी खारिज हो चुकी है।

बंद कमरे में होगी सुनवाई

जस्टिस एन वी रमन्ना, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस रोहिंग्टन फली नरीमन, जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण सुबह 10:25 बजे याचिका की सुनवाई करेंगे। क्यूरेटिव पिटिशन की सुनवाई बंद कमरे में होती है। जज देखते हैं कि पिटिशन में मेरिट है या नहीं। बता दें माना जा रहा कोर्ट इसे खारिज कर सकता है।

पवन के पास अभी दया याचिका का भी विकल्प

पवन ने अब क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल की है। पवन के पास अभी दया याचिका भी दाखिल की जानी है। इससे पहले बाकी तीनो की क्यूरेटिव और मर्सी खारिज की जा चुकी है।

दोषियों को 3 मार्च को फांसी दी जानी है

निर्भया के गुनाहगारों को 3 मार्च को फांसी पर लटकाने के लिए डेथ वारंट जारी किया जा चुका है। पवन की क्यूरेटिव अर्जी खारिज किए जाने के बाद उसने अगर मर्सी याचिका दायर किया तो फांसी की तारीख टल सकती है क्योंकि दया याचिका पेंडिंग रहने के दौरान फांसी नही दी जा सकती है।

फांसी की सजा टलवाने को पवन के वकील की अपील

इस बीच, दोषी पवन की ओर से उसका वकील ए पी सिंह पटियाला हाउस कोर्ट में फांसी पर रोक के लिए याचिका दायर करेंगे। सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटिशन लंबित होने के आधार पर उठाएगा मांग। सिंह ने कहा, ‘एक डेढ़ घंटे में आपको पूरी जानकारी मिल जाएगी। हां मैं याचिका दायर कर रहा हूं।’ दूसरी तरफ तिहाड़ जेल ने भी अदालत को दोषी की याचिका लंबित होने की जानकारी दे दी है।

दिल्ली हाई कोर्ट में भी एक याचिका

इधर, निर्भया मामले में मौत की सजा पाए चारों दोषियों की शारीरिक और मानसिक स्थिति जानने के लिए एनएचआरसी को निर्देश देने की मांग को लेकर शनिवार को दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.